BAPS Hindu Mandir Abu Dhabi : अबू धाबी में बनकर तैयार हुआ पहला हिन्दू मंदिर, पीएम मोदी करेंगे उद्घाटन

UAE Hindu Temple: नए साल 2024 की शुरुआत हो चुका है. और यह साल भारत और ख़ासकर हिंदुओ के लिए एक यादगार रहेगा. क्योंकि इस वर्ष 22 जनवरी को करीब 500 वर्षो के बाद में अयोध्या में भगवन प्रभु श्री राम मंदिर की भव्य प्राण प्रतिष्ठा होने वाली है.

तो वहीं दूसरी ओर 14 फरवरी को मुस्लिम देश अबू धाबी में पहले हिंदू मंदिर BAPS Hindu Mandir Abu Dhabi भी प्राण प्रतिष्ठा किया जाएगा. मुस्लिम देश अबू धाबी में आस्था और संस्कृति सभ्यता का प्रतीक के रुप में BAPS Mandir Abu Dhabi (बीएपीएस मंदिर )का निर्माण अब हो चुका है।

BAPS Hindu Mandir Abu Dhabi : अबू धाबी में बनकर तैयार हुआ पहला हिन्दू मंदिर, पीएम मोदी करेंगे उद्घाटन

मुस्लिम देश अबू धाबी में बना हिंदू मंदिर का डिटेल: BAPS Hindu Mandir Abu Dhabi Timing

BAPS Hindu Mandir Abu Dhabi : अबू धाबी में बनकर तैयार हुआ पहला हिन्दू मंदिर, पीएम मोदी करेंगे उद्घाटन
Image Source By -Twitter ( BAPS Hindu Mandir Abu Dhabi Photos)

Hindu Temple In UAE : जैसा कि आप सब जानते हैं कि नए साल 2024 की आगाज हो चुकी है और इस साल में भारत में बहुत कुछ ऐसा नया होने वाला है जो एक इतिहास बनकर उभरेगा। और सदियों तक इस साल को याद किया जाएगा. क्यों कि इसी साल में 22 जनवरी 2024 को अयोध्या में भगवन श्री राम मंदिर की भव्य उद्घाटन होगी।

तो वहीं 14 फरवरी 2024 को मुस्लिम देश अबू धाबी में भी पहले हिंदू मंदिर का उद्घाटन किया जाएगा और उस मंदिर का नाम BAPS Hindu Mandir Abu Dhabi है. जिसका निर्माण कार्य अब पुर्ण हों चुका है.

BAPS Hindu Mandir Abu Dhabi Review: यह मंदिर हिंदु मुस्लिम की एकता आस्था और संस्कृति, सद्भावना तथा सभ्यता का एक प्रतीक है यह एक सुंदर मंदिर है जो भारत से करीब 2.5 हज़ार किलोमीटर दूर अबू धाबी के एक शहर में बना हैं जोकि करीब 27 एकड़ भूमि में बनाया गया है. इस मंदिर को बनाने में हमारे देश के हजारों भक्तों की अपार मेहनत तथा साधु संतों समाज के मार्गदर्शन में हुआ है।

इस खुबसूरत मंदिर का उद्घाटन भारत के प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी और BAPS प्रमुख महंत स्वामी के द्वारा 14 फरवरी 2024 को किया जाएगा। तो हम आइए जानते हैं इस मंदिर की दिव्यता और खासियतों के बारे में विस्तार से।

कैसे पड़ी मंदिर की नींव? Abu Dhabi Hindu Temple foundation

Abu Dhabi Temple:  मुस्लिम देश अबू धाबी में मंदिर बनाने का सपना BAPS Swaminarayan Mandir Abu Dhabi के प्रमूख श्री स्वामी महाराज ने वर्ष 1997 में देखा था। जो करीब 26 वर्ष बाद जाकर पूर्ण होता दिख रहा है इस दिव्य मंदिर की आधारशिला प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने ही वर्ष 2015 में रखी थी। जिसका अनावरण 11फरवरी 2018 को अबू धाबी की राजधानी दुबई में ओपेरा हाउस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा ही किया गया था . और यह मंदिर अब अपनी आकार ले चुका है.

Abu Dhabi Hindu Temple foundation
Image Source By -Twitter

आपकों बता दें कि इस मंदिर को बनाने के लिए वहा के ” क्राउन प्रिंस” ने स्थान दिया था जिसकी जानकारी खुद पीएम मोदी ने दिया था। आपकों यह जानकारी दे दे की श्री ईश्वरचरण स्वामी तथा ब्रह्मविहारी स्वामी जी ने दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलकर अबू धाबी में निर्मित मंदिर का उद्घाटन करने के लिए निमंत्रण दिया था।BAPS Hindu Mandir Abu Dhabi Completions Date

मंदिर की क्या खासियत है? What is special about the Abu Dhabi Hindu Temple?

Hindu Temple being built in Abu Dhabi: यह स्वामी नारायण मंदिर, “मूल रूप से, एक समदलिय मंदिर है. जिसे खजुराहो के प्राचीन मंदिर जैसे बनया गया है और बीते 700 वर्षों में उस शैली में दुनियां में कहीं भी किसी भी मंदिर का निमार्ण नहीं किया गया है. मण्डोवर इस मंदिर का मुख्य शिखर है.

तो साथ में सात और भी शिखर हैं जिसका आकार और स्वरूप देखने में किसी ऑलमोस्ट पिरामिडिकल आकार का लगता है. इस हिंदू मंदिर का निमार्ण, मूर्तिकला सनातन शास्त्रों के अनुसार ही किया गया है. इस मंदिर में भगवान श्रीराम के शिखर पर आपकों संपूर्ण रामायण काल की कलाकृति को दी गई है।

जिसमें आपको भगवन श्री राम का जन्म भूमि अयोध्या, विवाह, वनवास और भगवान श्री राम का अयोध्या वापस आना जैसे कुल 40 भिन्न भिन्न प्रसंगों का वर्णन किया है। वहीं भगवान शिव के शिखर पर आपकों शिव पुराण की कलाकृति को अंकित किया है. साथ ही राधा-कृष्ण और भगवान श्री जगन्नाथजी के शिखर पर श्री मद भागवतम्, महाभारत तथा जगन्नाथ जी की कलाकृति को अंकित के गई है। Abu Dhabi Hindu temple Inauguration

तो वही भगवान श्री स्वामीनारायण के शिखर पर भगवान श्री स्वामीनारायण जी के सम्पूर्ण जीवनी का वर्णन किया  है. इसके अलावा भगवान तिरूपतिजी बालाजी मंदिर , पद्मावती और भगवान अयप्पा के शिखर पर आपकों इन सभी देवताओं से जुडी तथ्य की कलाकृति अंकित की गई है।BAPS Hindu Mandir Abu Dhabi Opening Date

मंदिर में धर्मगुरु और महापुरुषों की भी है मूर्तियां

इस Abu Dhabi Hindu Temple की वास्तुकला की अगर हम बात करें तो इस मंदिर का पूरा निमार्ण सनातन धर्म और उनसे जुड़ी हुईं अलग अलग गुणों के आधार पर किया गया है जो सत्य, अहिंसा,सहिष्णुता, दया, करुणा,संयम, प्रेम तथा आस्था विश्वास आदी के मूल्यों की एक जगह प्रतिमूर्ति रुप दिया  है।

इस BAPS Hindu Mandir Abu Dhabi को ऐसा प्रतीत होता है कि जैसे पूरे विश्व के मंदिर को पकड़कर यह रखा हो। साथ ही इस मंदिर में हमारे कई महान धर्मगुरु और महापुरुषों की मूर्तियां भी हैं. इसके अलावा इस मंदिर में भारतीय पौराणिक कथाएं जैसे पंचतंत्र, नचिकेता तथा श्रवण को भी चित्रित किया हैं।

इस मंदिर परिसर में भारतीय मंत्र जो हैं यत्र विश्वं भवत्ये कनीडम् वसुधैव कुटुम्बकम् को चित्रित किया है. जिसमें आपकों 14 अलग अलग पौराणिक सभ्यताएं शामिल हैं, उसमे हार्मनी प्रसंग माया संस्कृति, अरबी संस्कृति और यूरोपीय संस्कृति आदी से भी प्रसंग लिया गया है.

स्वामि नारायण मंदिर में दो डोम हैं. जिसमें एक पारंपरिक डोम में देवी-देवताओं की मूर्तियां हैं वहीं दूसरे डोम में आपकों पृथ्वी, जल, वायु तथा आकाश को दर्शाया गया है।Abu Dhabi Hindu temple Stutus

संगमरमर तथा ब्लेक ग्रेनाइट से बनाई है भगवान की मूर्ति

इस Abu Dhabi Hindu Temple में स्थापित अक्षर पुरुषोत्तम, राधा-कृष्ण, राम दरबार और भगवान शिव की प्रतिमा संगमरमर से बनी हुई हैं. वहीं पद्मावती तथा तिरुपति बालाजी की प्रतिमा को ब्लेक ग्रेनाइट पत्थर से निर्मित किया गया है.

इसके अलावा श्रीजगन्नाथजी की प्रतिमा को कास्ट यानी लकड़ी से बनाई गई है. तथा भगवान अयप्पा की मूर्ति को धातु से निर्मित किया गया है. और यह सभी मूर्ति का निमार्ण भारत के भिन्न भिन्न मंदिर और उनके संस्था के देख रेख  गई हैं।

यह दुनिया का पहला शास्त्रोक्त मंदिर है BAPS Hindu Mandir Abu Dhabi Address

इस BAPS Hindu Mandir Abu Dhabi को बनाते वक्त साइन्टिफिक डेटा का भरपूर इस्तेमाल किया गया है. जिसके लिए इसके नींव में करीब  100 सेंसर और मंदिर के अन्य हिस्सों के निर्माण में कुल 350 से अधिक सेंसर को लगाए गए हैं.

जिसका काम हैं आपकों कंप्यूटर डेटा के माध्यम से भूकंप, तापमान और दबाव परिवर्तन जैसी कुल तीन भिन्न भिन्न जानकारी को देने का काम करेगी। और यहीं कारण हैं कि इस BAPS Hindu Mandir Abu Dhabi को दुनियां का पहला शास्त्रोक्त मंदिर भी कहा जा रहा है जिसमे वैज्ञानिक डेटा भी देखने को मिलता है।

गंगा, यमुना और सरस्वती के जल से होगा पूजन विधि

यह एक ऐसा मंदिर हैं जिसका परिसर और BAPS Hindu Mandir Abu Dhabi दोनों अलग-अलग चीज हैं. जिसका डिजाइन सभी साधु संतों ने विपुलभाई सोमपुरा से चर्चा करके ही फाइनल किया था. और इसके डिजाइन में सभी प्रकार के दैविये  जीव जानवरों को चित्रित किया है जैसे गाय, बैल ,शेर, घोड़े, तोते और मोर आदि हैं. साथ ही गंगा, यमुना वा सरस्वती नदियों को दर्शाया गया हैं.

1 हजार साल तक खड़ा रहेगा मंदिर

इस भव्य BAPS Hindu Mandir Abu Dhabi बनाते वक्त प्राकृतिक सामग्रियों का पुरा इस्तेमाल किया गया है. जो जल्दी टूट फुट या सड़ गल न जाएं. यहां तक कि इस Abu Dhabi Hindu Temple में आपकों कहीं भी किसी स्टील या लोहे या सीमेंट का इस्तेमाल नहीं किया गया है। सिर्फ़ और सिर्फ़ पत्थर का उपयोग किया है.

इसके BAPS Hindu Mandir Abu Dhabi निमार्ण ट्रस्ट का कहना है कि नींव खोदते समय नीचे से एक बडा सा पत्थर भी मिल गया था।

आपको बता दें कि BAPS Hindu Mandir Abu Dhabi के निर्माण में इस्तेमाल की गई रेत क्लोरीन तथा सल्फर मुक्त है. और इस वजह से यह  यह मंदिर करीब 1 हजार साल से अधिक तक खड़ा रहेगा।

Leave a Comment