Ramsetu Details for In Hindi 2024; प्रेम का सबसे बड़ा प्रतीक,जानिए इसका पूरा रहस्य वं वैज्ञानिक दृष्टिकोन सच्चाई-

ramsetu facts 2024: सनातन धर्म के विभिन्न धार्मिक ग्रंथों के अनुसार त्रेता युग में राम और रावण की बिच युद्ध करने के लिए भगावन श्री राम के द्वारा और वानरों के द्वारा भारत और लंका के बीच एक लंबी चौड़ी पुल को बनाया गया था जिसे  राम सेतु के नाम से जानते  है.

इस पुल का सबसे ख़ास बात यह है कि इस में इस्तेमाल वाले पत्थर आज भी पानी में तैरते हैं.हालाकि विभिन्न समय-समय पर इसको लेकर कई सारे धार्मिक और वैज्ञानिक दावे भी होते रहे हैं. जैसे कि इस पुल को श्री राम ने बनाया था तो यह पुल खुद से  निर्मित पुल हैं . इन सभी अलग अलग दावे की सच क्या है और क्या यह सच रामसेतु है ।

Ramsetu Details for In Hindi ; प्रेम का सबसे बड़ा प्रतीक,जानिए इसका पूरा रहस्य वं वैज्ञानिक दृष्टिकोन सच्चाई-
Image created by -canva

मित्रो,आज हम आपको भारतवर्ष के ऐसे ऐतिहासिक रहस्य के विषय में बताऊंगा, जो मुख्य रूप से धार्मिक आस्था, से सीधे सीधे जुड़ा हुआ है, यह एक रामायण काल से जुडी एक रामसेतु का हैं ।जिसे लेकर हमारे देश में अक्सर इसपर राजनीति बहस होती हैं। यहां तक यह मामला अब अदालत तक पहुंच गई हैं जो की सनातन धर्म के लिये बहुत ही दुखद है।

लेकिन फिर भी आस्था से बढ़कर कोई चीज नही। और इससे कोई समझौता नहीं किया जा सकता है तब जब यह प्रेम का सबसे बड़ा हजारों वर्ष जीता जगता सबूत है, आइये जानते है, is ramsetu real story विस्तार से-

रामसेतु का प्रेम प्रतीक होने का मान्यता 2024 : what is ramsetu

ram setu google image
ram setu google image

ramsetu history: हिन्दू धर्म के सबसे पवित्र ग्रन्थ रामायण में उल्लेखित बातों में रामसेतु का पहली बार विस्तार से जिक्र किया गया है, जिसके रचयिता महर्षि वाल्मीकि थे। वाल्मीकि रामायण के अनुसार रामसेतु का निर्माण भगवान राम ने की थी।उक्त बातों में यह कहा गया है

कि, भगवान राम को अपने पिता राजा दशरथ के कहने पर 14 वर्ष वनवास के लिए महल से वनवास यात्रा पर थे, वनवास के अपने अलग अलग पड़ाव को पार करते हुए, वनवास के करीब 13 वर्ष बीतने को थे।

ramsetu hanuman तभी कुछ ऐसा हुआ कि रावण ने माता सीता का अपहरण का योजना बना लिया। और रावण ने अपने प्रयास में सफल हुआ तथा और क्षल से माता सीता का अपहरण कर लंका ले गया था।ram setu kaha hai

मान्यताएं अनुसार ,तब भगवान राम ने माता सीता को लाने के लिए विश्व विजयी रावण के लंका पर चढ़ाई कर दी थी।लेकिन रास्ते में विशाल समंदर को पार करने के लिए बानर सेना के जाने के लिए कोई साधन उपलब्ध नहीं था। तब भगवान राम ने समंदर से रास्ता देने के लिए आह्वान किया औऱ जब उस वक्त समंदर के देवता वरुण देव ने भगवान की प्रार्थना नहीं सुनी तो उन्होंने समुद्र को सुखाने के लिए धनुष बाण उठाया।ramsetu jane ka rasta

तभी वरुणदेव प्रकट हुये और भगवान राम को समंदर पार करने के लिए एक सेतु निर्माण का सुझाव दिया था।जिसके बाद नल और नील दो भाई जिसभी पत्थर को छू देते वह तैरने लगती।और इसप्रकार सभी बानर सेना पत्थर लाते गये, वं नल निल पत्थर को छू समंदर में रखते गये,

और इस प्रकार विशाल सम्बदर में राम सेतु का ram setu dhanushkodi निर्माण कार्य हुआ था ।फिर राम सेना लंका पहुचे और रावण का वध कर विजयी हासिल किए।तथा माता सीता को सकुशल वापस अयोध्या साथ लाये।जिससे यह साबित होता है कि उस वक्त अपने प्रेम को पाने के लिए कितना बड़ा कष्ट उठाना पड़ा, लेकिन अपने प्रेम को पाए भी।

इस सेतु पर दुनिया के वैज्ञानिक का दावा 2024 : can we visit ramsetu

ram setu original images
ram setu original images

ram setu starting point: रामसेतु पर समय समय पर कई रीसर्च हुए,जिसमें काल गणना, ज्योतिष शास्त्र गणना, भौगोलिक अनुमान वैज्ञानिकों के दृष्टिकोण से, पर किसी भी जगह यह नही कहा गया कि यह सेतु स्वयं बना ।इसमें ram setu by nasa नासा के वैज्ञनिक भी अपनी तस्वीरों के माध्यम से स्पष्ट कर चुके हैं कि यह सेतु रामायण काल के हैं,

लेकिन पुनः हाल के वर्षों में एक अमेरिकी साइंस चैनल ने यह फिर से दावा किया है कि भारत औऱ लंका के बीच स्थित राम सेतु पुल ram setu structure मानव निर्मित हैं और यह रामायण काल के हैं ।जहां यह भी पूरे रिषर्च के दावे के अनुसार कहा गया है कि यह कोई कत्रिम पुल नही है बल्कि मानवनिर्मित है।जिसे दुनिया एडम्स ब्रिज के नाम से जानती है।can we walk on ramsetu 2024

जिसका विस्तार से एक साइंस चैनल ने व्हाट ‘ऑन अर्थ एनसिएंट लैंड एंड ब्रिज’ के एक डॉक्यूमेंट्री वीडियो के माध्यम से पुरी दुनिया को यह बताया गया।जिसका विश्लेषण प्रसिद्ध भू वैज्ञानिक एरिन अर्गेईलियान ने खुद करते हुए कहा कि भारत औऱ लंका के बीच विशाल समंदर में स्थित रामसेतु ram setu quotes in hindi पत्थरों और (सैंडबर) बालुओ कि लम्बी श्रृंखला मानव निर्मित हैं जो भारत के रामेश्वरम नजदीक पामबन द्वीप से श्रीलंका के मन्नारद्वीप तक हैं।

यह ramsetu stone वहां पूर्व से पानी के बहाव में आया होगा, या मौजूद होगा। वही दूसरी तरफ उन्ही टीम के एक सदस्य वैज्ञानिक डॉ एलन लेस्टर ने कहा ,सैंडबर बालू समंदर के ही होंगे, लेकिन राम सेतु लगे पत्थर कहि और सेव लाकर रखा गया था। उपयुक्त दोनो बात एक ही है। इसके अलावा भी राम सेतु को लेकर कुछ और बातें अमेरिकी भू-वैज्ञानिकों ने ram setu carbon dating बताई जो इस प्रकार है-

1- वैज्ञानिकों ने नासा ramsetu satellite image के द्वारा ली गई तस्वीर को प्राकृतिक बताया।

2- भू वैज्ञानिकों ने कहा कि 30 मील लंबी यह रामसेतु पुल श्रृंखला चेन मानव निर्मित है।

3-  इस पुल का निर्माण सैंड बालू औऱ पत्थर से हुआ है।

4- वैज्ञानिक के अनुसार यहां पर लाया गए पत्थर करीब 7 हजार साल पुराना है।

5- हालांकि, कुछ जानकार इसे पांच हजार साल पुराना मानते हैं जिस दौरान रामायण में इसे बनाने की बातें कही गई है।

जाहिर है, वैज्ञानिकों के विश्लेषण के बाद पत्थर के बारे में रहस्य और गहरा गया है कि आखिर ये पत्थर यहां पर कैसे पहुंचा और कौन लेकर आया है।लेकिन अन्तः यह साबित होते है कि यह सेतु मानवनिर्मित और रामायण काल के है।ramsetu english name

रामसेतु से जुड़ी कुछ मुख्य रोचक बातें-ram setu evidence

1- ram setu dimensions 2024 का निर्माण भगवान राम ने अपने धर्मपत्नी सीता को लंका के राजा रावण के यहां से लाने के लिए और विशाल बानर सेना को लंका तक ले जाने के लिए बनाया गया था।

2- राम सेतु, राम औऱ सीता का प्रेमप्रतीक भी माना जाता है।how to reach ram setu

3- राम सेतु का निर्माण who built ram setu नल और नील दो भाइयों के बिना सम्भव नहीं था।

4- यह पुल सीधी नही है, थोड़ी बहुत टेढ़ी बनाई गई थी।

5- इस सेतु के बारे में कहा जाता है कि 15वीं शताब्दी में इस ढांचे पर चलकर रामेश्वर से मन्नार द्वीप तक जाया जा सकता था।

6- इस सेतु का कुछ हिस्सा समंदर के जलस्तर बढ़ने से डूब गया है।

7-दुनिया इस सेतु को ramsetu bridge name यडम्स ब्रिज के नाम से जानती हैं, जिसका अर्थ होता है आदम पुल।

8- इस सेतु की ram setu to sri lanka distance कुल ramsetu ki lambai 48km हैं। और चौड़ाई 3km हैं।

9- इस सेतु के आसपास में समुद्र काफी उथला है। समुद्र में इन चट्टानों की गहराई ramsetu length and width सिर्फ 3 फुट से लेकर 30 फुट तक के बीच में है।

10-    इस सेतु के कई जगह सुखी भी हैं ,औऱ कई जगह उठा हुआ हैं।

11- यह सेतु मन्नार की खाड़ी और पाक जलडमरू मध्य को एक दूसरे से अलग करता है।

12- ramsetu bridge का निर्माण महज 5 दिन में पूरा हुआ था जो अपने आप मे एक ऐतिहासिक बात है।

और भी पढ़े:

Leave a Comment