Umananda Island Information In Hindi: विश्व की सबसे छोटी रिवर आइलैंड उमानंद द्विप घूमने की पुरी जानकारी:

Umananda Island location: अगर आप कम बजट में किसी अच्छे और सुन्दर आइलैंड घूमना चाहते हैं तो यह आपके लिए लेख हैं आज मैं आपको इस लेख में एक नदी  के बारे में बताएंगे जो कि कम बजट में आपको Island घुमने का शोक भी पुरा भी कर देगा और लम्बा ड्राइव की जरुरत भी आपकों नहीं पड़ेगी. हालाकी यहां आपकों तो समंदर वाली बिच या उस जैसा नीला पानी तो नजर नही आएगा। लेकीन मजा भरपुर आयेगा और आप अच्छे से इंजॉय कर सकते हैं.

Umananda Island Information In Hindi: विश्व की सबसे छोटी रिवर आइलैंड उमानंद द्विप घूमने की पुरी जानकारी:

असम में स्थित यह एक बेहद ही खूबसूरत नदी आइलैंड है. जो दुनियां का सबसे छोटा नदी द्विप होने के साथ एक अजूबा रोमांचक नदी द्विप भी है. इसका नाम उमानंदा द्विप Umananda Island है, जो यहां की ब्रह्मपुत्र नदी के बीच में स्थित एक छोटा सा खूबसूरत आकर्षक नदी द्वीप है, जिसे देखने के लिए देश भर से लाखों पर्यटक यहां पर आते हैं और घूमने फिरने के अलावा कई तरह की एक्टिविक्टीस भी करते हैं.

आपके जानकारी के लिए मै बता दूं कि यह ब्रह्मपुत्र नदी चीन देश से होते हुए पूर्वोत्तर भारत के असम राज्य के राजधानी गुवाहाटी शहर से होते हुए आगे बहती हैं।

आप अपने दोस्त परिवर संग के साथ इस उमानंदा द्वीप Umananda Island Explore पर बड़े ही आसनी से घुम फिर और पिकनिक भी मना सकते है, लेकिन ऊससे पहले आपको इस Island के बारे में पूरी जानकारी पता कर लेना चाहिए ताकि आपको वहा जाने के बाद में कोइ भी दिक्कत नहीं हो।

umananda temple उमानंदा द्वीप पर घूमने के लिए कैसे जाएं , कब जाएं उमानंदा द्वीप, उमानंदा द्वीप बारे में सब कुछ जानने के लिए, आप हमारे इस लेख को अंत तक पूरा जरुर पढ़े, तो आइए अब हम सब विस्तार से जानते हैं उमानंदा आइलैंड की पूरी जानकारी।

umananda island timings के पौराणिक कथा

brahmaputra river peacock island : जानकारी के हिसाब से हिंदू पौराणिक शिव पुराण में वर्णित कथा के अनुशार, भोले नाथ शिव ने अपनी पत्नी आदी शक्ती के सुख और आनंद के लिए इस खुबसूरत Island का निर्माण किया था। और ऐसा कहा जाता है की भगवन शिव शंकर ने इस umananda river island पर काफ़ी दिनो तक भयानंद के स्वरूप में निवाश भी किया था।

इसके साथ ही मै आपको यह बता दे कि कालिका पुराण में भी इस बात का वर्णन मिलता है और कहा गया है कि, शिव शंकर जी जब गहरे ध्यान में थे और तब देवताओं के कहने पर कामदेव ने विघ्न डालने का काम किया था तो शिव शंकर ने उमानंदा द्वीप में अपनी तीसरी आँख से अग्नि उत्पन्न कर कामदेव को जला दिया था। और इसी लिए इस द्विप का एक अन्य नाम भस्माचल भी पड़ा.

Umananda Island की कुछ महत्वपूर्ण बाते

Umananda Island की कुछ महत्वपूर्ण बाते

umananda island pronunciation एक नदी द्विप है जिसका नाम असमिया उमा से बनी हुआ हैं, इसे और अच्छे तरह से समझने के लिए हम आपको बता दे की यह खुबसूरत दैवीय नाम भगवान शिव शंकर की पत्नी देवी पार्वती का दूसरा नाम उमानंद हैं।

यह एक प्राकर्तिक आइलैंड है और आपकों जानकारी के दे दे कि जब देश में ब्रिटिश सरकार शासन व्यवस्था थी, तो इस द्वीप का एक और नाम रखा गया था, उस नाम को एक ब्रिटिश अधिकारी ने इस आकर्षक आइलैंड की रंचना को देखते हुए मयूर द्वीप नाम रखा था, जिसे उन्हों ने तब इस umananda island को एक मोर के पंख के समान समझा था।

इन दोनों नाम के आलावा इस आईलैंड को भस्माचल के नाम या रूप में भी जाना जाता है, यहां पर भस्म शब्द का शाब्दिक अर्थ होता है ‘नष्ट करना या विनाश करना’, और चल, शब्द का अर्थ होता है ‘स्थान’। यानी वह स्थान जहां पर भामासुर का अंत हुआ था।

Umananda Island History – उमानंद द्वीप इतिहास

umananda temple peacock island उमानंदा द्वीप पर एक बहुत ही प्रसिद्ध मंदिर स्थित है जो कि प्रथम पूज्य श्री गणेश, भगवान शिव, माता पार्वती जी और भगवान विष्णु के अलावा अन्य हिंदू देवी – देवताओं का पूज्य स्थान हैं। जिसे साल 1987 में आई एक भूकंप ने इस प्राचीन और प्रसिद्ध मंदिर को बहुत भरी मात्रा में क्षति पहुंचाई थी, जिसे बाद में वहा के आम लोगों और स्थानियो व्यापारी द्वारा मरम्मत करवाई गई थी।

आपके जानकारी के लिए,मै बता दूं कि इस भव्य मंदिर निर्माण के मरम्मत कार्य के दौरान इसके दीवारों पर कुछ नई वैष्णवी लिपियां लिखी हुई प्राप्त हुई थी.  शिल्पकारों ने तब द्वीप पर उस लिपिया को चट्टानों से आकृतियों को के रुप में उकेरा था। जिसके साथ ही उमानंदा आइलैंड पर हर साल महा शिवरात्रि के अवसर पर व्यापक रूप से महा शिवरात्रि मनाई जाती है, जिसमे शमिल होने के लिए हजारों लोग जाते हैं।

वही सैलानियो के देखने के लिए आपको उमानंदा द्वीप पर लुप्तप्राय सुनहरे लंगूर की कई प्रजातिया मिल जाएंगे जो कि देश में दुसरे जगह नहीं पाए जाते है. जिसे 1980 के दशक में भारत सरकार द्वारा इस आईलैंड पर लाया गया था. जो कि यह प्राइमेट की एक लुप्तप्राय प्रजाति है. हालाकी साल 2020 में इसमें से एक आखरी एक सुनहरे लंगूर प्रजाती की भी मौत हो गई. साथ ही खट्टे इमली के शौकीन हैं तो यह द्वीप इमली के पेड़ों से पुर्ण है।

umananda island area की कुछ रोचक तथ्य

  1. उमानंदा आईलैंड असम के गुवाहाटी के ब्रह्मपुत्र नदी के बीच में स्थित एक खूबसूरत नदी द्वीप है।
  2. ब्रह्मपुत्र नदी पूर्वोत्तर भारत राज्य के असम के गुवाहाटी शहर से होते हुए बहती हैं।
  3. उमानंदा आईलैंड का दुसरा नाम असमिया यानी उमा से बनी हुई हैं।
  4. भगवान शिव शंकर की पत्नी देवी पार्वती का दूसरा नाम उमा हैं यानी उमानंद।
  5. उमानंदा आईलैंड का एक और नाम अंग्रेजो ने रखा गया था जिसे Peacock Island या मयूर द्वीप भी कहते है.
  6. उमानंदा आईलैंड को भस्माचल के रूप में भी लोग जाना जाता
Umananda Island Information FAQ:-

Q. उमानंद द्वीप नाम किसने और कहाँ से लिया?

शिव पुराण से।

Q.किसने उमानंद मंदिर बनवाया

आम लोग और व्यापारी वर्ग ने।

Q. उमानंद द्वीप का निर्माण कैसे हुआ?

ऊपर विस्तार से बताया गया है।

Q.उमानंद मंदिर कहाँ स्थित है?

उमानंद मंदिर उमानंद द्विप पर है।

Q.गुवाहाटी से उमानंद द्वीप की दूरी कितनी हैं?

92 किलो मीटर के आसपास।

Q.उमानंद द्वीप कैसे जाएं?

Q.उमानंद द्वीप जाने के लिए असम राज्य के गुवाहाटी से जा सकते है।

निष्कर्ष: –

आज का यह लेख umananda island in hindi आपको कैसा लगा. यदि आपको हमारी यह स्टोरी guwahati umananda island ropeway पंसद आया हों और इस लेख से जुड़े हुआ आपके कोई भी सवाल हैं, तो आप हमें इस लेख में आर्टिकल के निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में डिटेल में बताएं। हम आप को उससे जुड़ी हुई सही जानकारी पहुंचाने का पूरी प्रयास करेगें.

साथ ही आप इस umananda island ropeway को अपने रिश्तेदार दोस्त आदि को शेयर जरूर करें। और ऐसी ही अन्य टूरिज्म से जुडी हुई स्टोरी पढ़ने के लिए आप हमे लगातार जुड़े रहें।

अन्य भी पढ़ें:-

Leave a Comment